Monthly Archives: June 2017

शिवसेना का तंज, ‘आज एयर इंडिया बेच रहे हो कल क्या कश्मीर भी नीलाम कर दोगे’

नई दिल्ली. एयर इंडिया का विनिवेश करने के सरकार के फैसले की एनडीए सहयोगी शिवसेना समेत कई दलों ने शुक्रवार को आलोचना की. शिवसेना ने यह कहते हुए इस फैसले का मजाक उड़ाया कि सरकार इस आधार पर कश्मीर भी नीलाम कर सकती है कि वह उस पर आने वाला सुरक्षा खर्च नहीं उठा सकती. 

शिवसेना ने एयर इंडिया के निजीकरण का विरोध

शिवसेना ने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार पर भरोसा नहीं किया जा सकता है, यदि सरकार एयरलाइन नहीं चला सकती तो वह देश कैसे चलाएगी. माकपा और तृणमूल कांग्रेस ने भी इस फैसले पर हमला किया और इसे तत्काल रोकने की मांग की. 

सामाना में लिखा ‘सरकार पर भरोसा नहीं किया जा सकता है’

अपने मुखपत्र ‘सामना’ में शिवसेना ने लिखा, ‘आज एविएशन कंपनी बेची जा रही है क्योंकि उस पर 50,000 करोड़ रुपए का कर्ज है. कल सरकार कहेगी कि वह कश्मीर घाटी का सुरक्षा खर्च उठाने में असमर्थ है, इसलिए वह इसे नीलाम करेगी. उन पर भरोसा नहीं किया जा सकता है.’ बीजेपी पर हमला करते हुए शिवसेना ने कहा कि अगर यही फैसला पिछली यूपीए सरकार ने किया होता तो बीजेपी ने उसे नहीं बख्शा होता. एनडीए सहयोगी ने वित्त मंत्री अरूण जेटली से पूछा कि वह यह बताएं कि महाराजा (एयर इंडिया) भिखारी कैसे बन गया.

माकपा और तृणमूल ने भी किया विरोध

उधर माकपा ने एक बयान में कहा कि एयर इंडिया की बिक्री मोदी की संपूर्ण निजीकरण अभियान का हिस्सा है जो राष्ट्रहित के विरद्ध है. इसे तुरंत रोका जाए. तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने भी इस फैसले का विरोध किया. दो दिन पहले ही जेटली ने घोषणा की थी कि मंत्रिमंडल ने एयर इंडिया का विनिवेश करने की सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है.

Hindi News

GST लागू : PM ने कहा यह देश का आर्थिक एकीकरण, भाषण की 5 बड़ी बातें

GST लागू : PM ने कहा यह देश का आर्थिक एकीकरण, भाषण की 5 बड़ी बातें

पीएम ने कहा – जीएसटी एक पारदर्शी और साफ-सुथरी प्रणाली है जो कालेधन और भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाएगी और एक कार्य संस्कृति को आगे बढ़ाएगी.

Hindi News

पीट-पीट कर हत्या की घटनाओं को राजनीतिक और सांप्रदायिक रंग नहीं दें : वेंकैया नायडू

नई दिल्ली. किसी व्यक्ति की पीट पीट कर हत्या किए जाने की घटना को निंदनीय और बर्बर करार देते हुए केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को कहा कि कोई भी सभ्य समाज इसे नहीं स्वीकार कर सकता. इसके साथ ही उन्होंने ऐसी घटनाओं को राजनीतिक एवं सांप्रदायिक रंग नहीं देने की अपील की. सूचना एवं प्रसारण मंत्री नायडू का यह बयान देश भर में हुई ऐसी कई घटनाओं के बीच झारखंड में भीड़ द्वारा एक मुस्लिम व्यक्ति की बीफ ले जाने के आरोप में पीट पीट कर हत्या किए जाने की पृष्ठभूमि में आया है. 

‘पीट-पीट कर हत्या निंदनीय और बर्बर है’

नायडू ने कहा, ‘किसी भी व्यक्ति की पीट-पीट कर हत्या या हत्या निंदनीय और बर्बर है तथा कोई भी सभ्य समाज इसे स्वीकार नहीं कर सकता. यह संबंधित राज्यों की कानून प्रवर्तन एजेंसियों पर है कि वे सख्त संभव कदम उठाएं.’ उन्होंने कहा, ‘हम इसे धार्मिक रंग नहीं दें. हम समाज को विभाजित नहीं करें.’ उनसे झारखंड की घटना के बारे में सवाल किया गया था।

‘राजनीतिक और सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश न करें’

नायडू ने जोर दिया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने बयान के जरिए सरकार का रुख साफ कर दिया है कि गौरक्षा के नाम पर किसी को भी कानून अपने हाथों में नहीं लेना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘कुछ लोग इसे बढ़ा-चढ़ा कर कर पेश करने का प्रयास कर रहे हैं, कुछ इसे राजनीतिक रंग देने का प्रयास कर रहे हैं और कुछ इसे सांप्रदायिक रंग देने का प्रयास कर रहे हैं. मैं (उनसे) अपील करता हूं कि वे ऐसी घटनाओं को राजनीतिक या सांप्रदायिक रंग नहीं दें. 

पीएम ने हिंसक कार्रवाईयों की निंदा की

पीएम ने गुरूवार को गौरक्षा के नाम पर हिंसक कार्रवाईयों की निंदा की थी. गुजरात में साबरमती आश्रम में एक सभा को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा था कि गौभक्ति के नाम पर लोगों की हत्या स्वीकार्य नहीं है और महात्मा गांधी कभी इसकी अनुमति नहीं देते. नायडू ने कहा कि यह संबंधित राज्य सरकारों की ड्यूटी है कि वे जिम्मेदार लोगों के खिलाफ उचित, तुरंत और सख्त कार्रवाई करें.

नायडू की अपील कानून हाथों में न लें

नायडू ने लोगों से अपील की कि वे कानून अपने हाथों में नहीं लें और किसी भी उल्लंघन की रिपोर्ट कानून प्रवर्तन एजेंसियों को दें. नायडू ने कहा कि अगर कानून का उल्लंघन दिखता है तो लोग कानून प्रवर्तन अधिकारियों को इसकी जानकारी दें और उन्हें कार्वाई करने दें. अगर वे कार्वाई नहीं करते हैं तो लोगों को आवाज उठाकर उन्हें कार्रवाई के लिए कहना चाहिए.

Hindi News

जीएसटी लागू करने का कार्यक्रम एक ‘तमाशा’ : राहुल गांधी

नई दिल्ली : कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने जीएसटी लागू करने के कार्यक्रम को ‘तमाशा’ करार देते हुए कहा कि इस सुधार पहल को आधे अधूरे ढंग से खुद का प्रचार करने की कवायद के रूप में आगे बढ़ाया जा रहा है. विदेश में छुट्टियां मना रहे राहुल गांधी ने सरकार पर निशाना साधते हुए उस पर असंवेदनशील होने का आरोप लगाया।

राहुल गांधी ने ट्वीट कर साधा निशाना

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘एक सुधार जिसमें अपार संभावनाएं थी, उसे आधे अधूरे ढंग से खुद का प्रचार करने की कवायद के रूप में पेश किया जा रहा है..जीएसटी तमाशा।” उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘किन्तु नोटबंदी की तरह जीएसटी को अकुशल एवं असंवेदनशील सरकार द्वारा योजना, दूरदृष्टि एवं संस्थागत तैयारियों के बिना लागू किया जा रहा है।’

 

राहुल ने कहा कि नोटबंदी के उलट जीएसटी का हमने समर्थन किया है

राहुल ने कहा कि भारत में जीएसटी लागू इस तरह करना चाहिए जिससे कि इससे करोड़ों आम नागरिकों, छोटे व्यापारियों एवं कारोबारियों को भारी पीड़ा एवं चिंता से न गुजरना पड़े. उन्होंने कहा कि नोटबंदी के विपरीत जीएसटी एक ऐसा सुधार है जिसकी कांग्रेस ने बहुत शुरूआत से ही वकालत और समर्थन किया है. 

 

कांग्रेस ने किया बैठक का बहिष्कार

राहुल के इस ट्वीट से एक दिन पहले कांग्रेस ने जीएसटी को आधीरात में लागू करने के संबंद्ध में संसद के केन्द्रीय कक्ष में आयोजित विशेष बैठक का बहिष्कार करने की घोषणा की थी. कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा ने दुनिया में अभी तक की सबसे अधिक जीएसटी दर लगाई है जबकि पूर्व संप्रग गठबंधन ने इस कर पर 18 प्रतिशत की सीमा रखी थी.

कांग्रेस ने कहा कि दुकानदारों, व्यापारियों और छोटे कारोबारियों का जीवनयापन प्रभावित होगा

सुरजेवाला ने कहा कि बीजेपी सरकार के पांच स्तरीय कर ढांचे वाली भारी भरकम जीएसटी से दुकानदारों, व्यापारियों और छोटे कारोबारियों का जीवनयापन प्रभावित होगा. 
सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, ‘कांग्रेस के जीएसटी विधेयक की भावना थी..एकल, सरल, पारदर्शी, बिना जटिल एवं मुद्रास्फीति घटाना. वर्तमान जीएसटी इसके बिल्कुल विपरीत है..भाजपा के जीएसटी की परिभाषा है जटिल एवं क्रियान्वयन का बोझ.’

Hindi News

ब्रिटेन में इस 11 साल के इंडियन लड़के ने तोड़ा अल्बर्ट आइंस्टीन का रिकॉर्ड

लंदन: ब्रिटेन में भारतीय मूल का 11 वर्षीय लड़का मेन्सा आईक्यू टेस्ट में सर्वाधिक 162 अंक हासिल कर देश का सबसे ज्यादा बुद्धिमान बच्चा बन गया है. उसने महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन और स्टीफन हॉकिंग से दो अंक अधिक प्राप्त किए हैं.

किसी तैयारी के पास किया टेस्ट 

दक्षिण इंग्लैंड में रीडिंग टाउन के अर्णव शर्मा ने बिना किसी तैयारी के कुछ सप्ताह पहले सबसे मुश्किल टेस्ट के लिए मशहूर मेन्सा आईक्यू टेस्ट को पास किया और उन्होंने इससे पहले कभी इस टेस्ट को नहीं दिया था. द इंडिपेंडेंट की खबर के मुताबिक टेस्ट में उनके अंक उन्हें आईक्यू स्तर पर देश में अव्वल स्थान पर रखते हैं. शर्मा ने कहा, ‘मेन्सा टेस्ट मुश्किल होता है और कई लोग इसे पास नहीं कर पाते. मुझे तो इसे पास करने की उम्मीद नहीं थी. मैंने यह टेस्ट दिया और इसमें करीब ढाई घंटे लगे.’ उन्होंने कहा कि वहां करीब सात या आठ लोग थे.

टेस्ट देने से पहले उत्सुक नहीं थे

शर्मा ने कहा कि वह टेस्ट देने से पहले उत्सुक नहीं थे. उन्होंने कहा, ‘मैंने टेस्ट के लिए कोई तैयारी नहीं की थी लेकिन मैं घबरा भी नहीं रहा था. मेरा परिवार हैरान हुआ लेकिन वे भी बहुत खुश थे जब मैंने उन्हें परिणाम के बारे में बताया.’ उसकी मां मीशा धमिजा शर्मा ने कहा, ‘मैं सोच रही थी कि क्या चल रहा होगा क्योंकि उसने कभी देखा नहीं था कि यह पेपर कैसा होता है.’ उन्होंने कहा कि जब वह ढाई साल का हुआ तो मुझे उसके मैथ्स के कौशल के बारे में पता चल गया था.

गाने और डांस करने का है जुनून 

शर्मा को गाने और डांस करने का भी जुनून है और वह जब आठ साल का था तो बॉलीवुड डांस करके वह ‘रीडिंग्स गॉट टैलेंट’ के सेमीफाइनल में भी पहुंचा था. मेन्सा को दुनिया की सबसे बड़ी और पुरानी उच्च आईक्यू सोसायटी माना जाता है. वैज्ञानिक एवं वकील लांसलॉट लियोनेल वेयर और ऑस्ट्रेलियाई बैरिस्टर रोलैंड बेरिल ने 1946 में ऑक्सफोर्ड में इसकी स्थापना की थी. बाद में इस संगठन का प्रसार विश्वभर में हुआ.

(इनपुट एजेंसी से भी)

Hindi News

GST की कंपलीट गाइड: सर्विसेज लिस्ट और जीएसटी दरों की पूरी LIST

नई दिल्ली: जीएसटी यानी वस्तु एवं सेवा कर (Goods & Services Tax) जो आज आधी रात से लागू होगा. इसे भारत में Tax सुधारों को लेकर आज़ादी के बाद से अब तक का सबसे महत्वपूर्ण संवैधानिक संशोधन माना जा रहा है. पूरे देश में GST को 1 जुलाई 2017 से लागू होने जा रहा है. 1 जुलाई से जीएसटी की दरें लागू होने से आपकी जेब पर इसका क्या असर पड़ेगा इसे जानना आपके लिए बहुत जरूरी है. भारत सरकार द्वारा जारी इस लिंक पर आप महंगी होनेवाली चीजें, जीएसटी दरें और सर्विस टैक्स की पूरी जानकारी दी गई है. नीचे दिए गए लिंक पर आप क्लिक कर यह जानकारी हासिल कर सकते हैं.

GST के तहत आनेवाली सर्विसेज लिस्ट

http://www.cbec.gov.in/resources//htdocs-cbec/gst/Schedule%20of%20GST%20…

GST दरें  (आइटम के लिहाज से)

http://www.cbec.gov.in/resources//htdocs-cbec/gst/chapter-wise-rate-wise…

सेस रेट्स  (आइटम के लिहाज से)

http://www.cbec.gov.in/resources//htdocs-cbec/gst/gst-compensation-cess-…

1 जुलाई से लागू होने जा रहा है एक समान कर वाला जीएसटी यानि गुड्स एंड सर्विसिस टैक्स एक ऐसा टैक्स है जो टैक्स के बड़े जाल से मुक्ति दिलाएगा. जीएसटी आने के बाद बहुत सी चीजें सस्ती हो जाएगी जबकि कुछ जेब पर भारी भी पड़ेंगी. लेकिन सबसे बड़ा फायदा होगा कि टैक्स का पूरा सिस्टम आसान हो जाएगा. 
– इससे भारत एक Single टैक्स वाली अर्थव्यवस्था बन जाएगा यानी देश में वस्तुओं और सेवाओं पर लगने वाले अलग अलग तरह के Tax खत्म हो जाएंगे और फिर एक नये आंकड़े के मुताबिक देश के करीब 132 करोड़ लोग सेवाओं और वस्तुओं पर सिर्फ एक तरह का Tax देंगे जिसे GST के नाम से जाना जाएगा।  

Hindi News

भारी बारिश के चलते अमरनाथ यात्रा दो मार्गों पर निलंबित

श्रीनगर: वार्षिक अमरनाथ यात्रा शुरू होने के एक दिन बाद ही भारी बारिश के चलते पहलगाम, बालटाल दोनों ही मार्गो पर निलंबित कर दी गई.

श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया, आज सुबह बारिश के चलते दोनों मार्गो पर यात्रा अस्थायी रूप से निलंबित कर दी गई. उन्होंने बताया कि बारिश की वजह से कुछ स्थानों पर रास्तों में फिसलन आ गई है.

अधिकारी ने कहा, बालटल और नुनवान आधार शिविर के लिए जाने वाले श्रद्धालुओं से यात्रा शुरू करने से पहले एसएएसबी द्वारा स्थापित नियंत्रण कक्ष या हेल्पलाइन से संपर्क कर मौजूदा स्थिति का पता लगाने को कहा गया है.

अमरनाथ में 6000 से से ज्यादा लोगों ने किये दर्शन किए

खराब मौसम के बावजूद अमरनाथ की पवित्र गुफा में कड़ी सुरक्षा के बीच आज 6,000 से ज्यादा तीर्थयात्रियों ने दर्शन किये. वहीं रास्ते में पत्थर गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गई.

2,481 तीर्थयात्रियों का दूसरा जत्था जम्मू से 66 गाड़ियों में यात्रा के दो आधार शिविरों के लिए रवाना हुआ. इस जत्थे में1638 पुरष, 663 महिलाएं और 180 साधु शामिल हैं.

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि तीर्थयात्रियों की पहरेदारी केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के कर्मी कर रहे हैं.

एक सरकारी प्रवक्ता ने कहा, आसमान में बादलों के बीच यात्रा आज सुबह पहलगाम और बालटाल के दो मार्गा के जरिए शुरू हुई. उन्होंने कहा कि 6097 श्रद्धालुओं ने पहले दिन 3,880 मीटर उंचाई पर पवित्र गुफा में प्राकृतिक रूप से निर्मित बाबा बफार्नी के दर्शन किए. उन्होंने कहा कि इस साल अमरनाथ यात्रा पिछले साल के 48 दिनों की तुलना में आठ दिन कम होगी और यह सात अगस्त को श्रवण पुर्णिमा (रक्षा बंधन) को खत्म हो जाएगी.

जम्मू कश्मीर के राज्यपाल एनएन वोहरा गुफा मंदिर में पहुंचने वाले शुरआती लोगों में शामिल थे. वह यात्रा के मामलों का प्रबंध करने वाले श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड के अध्यक्ष भी है.

प्रवक्ता ने कहा कि उन्होंने मंदिर के गर्भ गृह में दर्शन किए और प्रथम पूजा समारोह में हिस्सा लिया. वोहरा ने राज्य में शांति, मेल, प्रगति और समृद्धि की प्रार्थना की.

प्रवक्ता ने कहा कि पत्थर गिरने से जम्मू के अफगाना मोहल्ले के रहने वाले भूषण कोटवाल की मौत हो गई.वह सुबह छह बजकर 20 मिनट पर बालटाल मार्ग पर रेलपथरी और ब्रारीमार्ग के बीच से मंदिर जा रहे थे.

 

Hindi News

मुस्लिम देश में आजम का सिर कट जाता: स्वामी

News in Hindi: सुब्रमण्यन स्वामी ने समाजवादी पार्टी नेता आजम खान के सेना पर दिए बयान की निंदा करते हुए कहा कि अगर उन्होंने किसी मुस्लिम देश में सेना के बारे में ऐसा कहा होता तो उनका सिर कलम कर दिया जाता। इससे पहले आजम खान ने विवादित बयान देते हुए कहा था कि महिलाएं फौजियों के प्राइवेट पार्ट काटकर ले गईं, जिस पर पूरे हिंदुस्तान को शर्मिंदा होना चाहिए।

आजम खान ने एक सभा में कहा था, ‘हथियारबंद औरतों ने फौजियों को मारा। दहशतगर्द फौजियों के प्राइवेट पार्ट्स काट ले गए। उन्हें हाथ से शिकायत नहीं थी। सिर से नहीं थी। पैर से नहीं थी। जिस्म के जिस हिस्से से उन्हें शिकायत थी, वे उसे काटकर ले गए। इतना बड़ा संदेश है, जिसपर पूरे हिंदुस्तान को शर्मिंदा होना चाहिए और सोचना चाहिए कि हम दुनिया को क्या मुंह दिखाएंगे?’

सुब्रमण्यन स्वामी ने कहा कि ऐसे लोगों का मकसद सिर्फ सुर्खियों में बने रहना होता है और ये लोग मुस्लिमों को गुमराह करते हैं। सुब्रमण्यन स्वामी ने कहा, ‘आजम खान बेहूदी बातें करते हैं। वह भारत में जिस लोकतंत्र का मजा ले रहे हैं वह किसी भी मुस्लिम देश में नहीं है। वह किसी भी मुस्लिम देश में ऐसा नहीं बोल सकते। अगर वह सऊदी अरब में वहां की सेना के बारे में ऐसा कह दें तो अगले ही दिन उनका सिर कलम कर दिया जाएगा या फिर उन्हें पत्थरों से मार दिया जाएगा।

Hindi News

कांग्रेस समेत कई विपक्षी दल GST बैठक का बहिष्कार करेंगे, जेडीयू ने फैसला सांसदों पर छोड़ा

नई दिल्ली:  वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) की शुरूआत के लिए 30 जून को संसद में होने वाले मिडनाइट सेशन में कई विपक्षी दल हिस्सा नहीं ले रहे हैं. कांग्रेस, तृणमूल  कांग्रेस, आरजेडी, समाजवादी पार्टी और वाम दलों ने जहां सरकार द्वारा घोषित विशेष समारोह में हिस्सा ना लेने की घोषणा की है वहीं जदयू ने कहा है कि वह यह फैसला अपने सांसदों पर छोड़ती है. 

और पढ़ें : आधी रात को संसद के विशेष सत्र में लागू होगा जीएसटी, 15 अगस्त 1947 की यादें फिर से होंगी ताज़ा

 

कांग्रेस ने बैठक को बताया प्रचार का बड़ा तमाशा
कांग्रेस ने सरकार द्वारा बुलाई गई बैठक की जमकर आलोचना करते हुए इसे चर्चाएं हासिल करने के लिए ‘खुद के प्रचार का बड़ा तमाशा’ बताया. पार्टी ने सरकार पर देश के स्वतंत्रता आंदोलन का ‘अपमान’ करने का भी आरोप लगाया क्योंकि संसद के सेंट्रल हॉल में  इससे पहले हुए तीन आधी रात के समारोह देश की आजादी से संबंधित थे. काग्रेस नेताओं ने कहा कि पार्टी के समारोह में हिस्सा ना लेने का यह भी एक कारण है. 

आरजेडी भी करेगी बहिष्कार
कांग्रेस की तरह लालू प्रसाद की पार्टी आरजेडी ने भी जीएसटी को लेकर संसद की विशेष बैठक से दूर रहने का निर्णय लिया है. चारा घोटाला से जुडे एक मामले में गुरूवार को झारखंड में पेशी के लिए गए लालू ने अपनी पार्टी द्वारा बैठक के बहिष्कार की घोषणा करते हुए कहा कि दिल्ली में आधीरात में आयोजित बैठक में उनकी पार्टी शामिल नहीं होगी और उसका बहिष्कार करेगी.

और पढ़ें : 1 जुलाई से लागू हो जाएगा GST, उससे पहले जानिए आपके जीवन पर क्या होगा असर

बहिष्कार की घोषणा सबसे पहले तृणमूल ने की
तृणमूल कांग्रेस बैठक की बहिष्कार की घोषणा करने वाली पहली पार्टी थी. ममता बनर्जी ने कहा, ‘हम जीएसटी के समर्थन में थे. लेकिन उन्होंने कई चीजें बदल दीं. दवा आदि पर उन्होंने कर लगा दिया. हमने उनसे इसे जल्दबाजी में लागू नहीं करने को कहा. लेकिन उन्होंने इस पर ध्यान नहीं दिया.’  ममता ने कल कहा था कि तृणमूल कांग्रेस 30 जून की आधीरात को जीएसटी लागू करने के प्रोग्राम में भाग नहीं लेगी.

भाकपा भी करेगी बहिष्कार
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) ने  केन्द्र पर जीएसटी लागू करने के लिए जल्दबाजी करने का अरोप लगाया. पार्टी ने 30 जून आधी रात ससद की विशेष बैठक में भाग नहीं लेने का फैसला किया है. भाकपा के महासचिव सूर्यवरम सुधाकर रेड्डी ने कहा कि पार्टी ने अपने सांसदों से विचार विमर्श करने के बाद सरकार की ओर से बुलाई गई बैठक में शामिल नहीं होने का निर्णय किया है.

और पढ़ें : जीएसटी के स्वागत में संसद के केंद्रीय कक्ष में होगी सितारों से जगमगाती रात

जदयू ने फैसला अपने सांसदों पर छोड़ा
 जीएसटी पर जदयू ने अपना रुख साफ ना करते हुए कहा कि उसने यह फैसला अपने सांसदों पर छोड़ दिया है. हालांकि पार्टी के प्रवक्ता के सी त्यागी ने कहा, ‘यह महज एक सुधारवादी उपाय है. सरकार जिस तरह इसे भारत की आर्थिक आजादी के रूप में पेश कर रही है, वह दुर्भाग्यपूर्ण है.’

Hindi News

GST पर PM मोदी के साथ खड़ा JDU

India News: बिहार के महागठबंधन के घटक दल महत्‍वपूर्ण राष्‍ट्रीय मुद्दे GST पर एकमत नहीं दिख रहे हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि जीएसटी अच्छी कर प्रणाली है, जबकि जदयू के सहयोगी राजद व कांग्रेस इसके विरोध में खड़े हैं।

मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि वे यूपीए शासन के समय से ही GST का समर्थन कर रहे हैं। इसमे कोई नई बात नहीं है। नीतीश ने इसे बेहतर कर प्रणाली बताते हुए सभी पार्टियों को इसका समर्थन करने की अपील की। दूसरी ओर लालू प्रसाद ने कहा कि उनकी पार्टी जीएसटी लांचिंग से दूर रहेगी।

ज्ञात हो GST लागू करने की घोषणा के लिए 30 जून की मध्य रात्रि में संसद की विशेष बैठक बुलाई गई है। इसमें बिहार की महागठबंधन सरकार में वाणिज्य कर मंत्री व जदयू नेता विजेंद्र यादव अधिकारियों के साथ शामिल होंगे। दूसरी ओर महागठबंधन के सबसे बड़े घटक राजद ने इस बैठक से किनारा कर लिया है।

GST लागू करने की घोषणा के लिए 30 जून की मध्य रात्रि में बुलाई गई विशेष बैठक में नीतीश सरकार के वाणिज्य कर मंत्री विजेंद्र यादव अपने अधिकारियों के साथ शामिल होने के लिए दिल्ली जा रहे हैं. नीतीश कुमार के आने की खबर भी मीडिया में छाई हुई है.

Hindi News