कैबिनेट मंत्री राजीव रूडी और फग्गन कुलस्ते ने दिया इस्तीफा, उमा ने की इस्तीफे की पेशकश!

नई दिल्ली: मोदी कैबिनेट में कौशल विकास मंत्रालय की जिम्मेदारी संभाल रहे राजीव प्रताप रूडी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है इसके साथ ही हेल्थ ऐंड फैमिली वेलफेयर राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. हालांकि इस्तीफे का कारण अभी तक सामने नहीं आया है. राजीव प्रताप रूडी बिहार के सारण से लोकसभा सांसद हैं और केंद्र सरकार में कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय में राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) थे.

मीडिया रिपोर्टस की मानें तो खबरें हैं केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने भी स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए इस्तीफे की पेशकश की है. 

चर्चा है कि अब जदयू के कुछ सांसदों में केंद्रीय मंत्रिमंडल में नुमाइंदगी दी जा सकती है. जदयू महासचिव आरसीपी सिंह का नाम भी इस क्रम में चल रहा है. बिहार भाजपा से मोदी कैबिनेट में पांच मंत्री थे अब चार रह गए हैं. राधामोहन सिंह, धर्मेंद्र प्रधान, रविशंकर प्रसाद और गिरिराज सिंह बिहार कोटे से केंद्रीय मंत्री हैं. लोजपा सुप्रीमो रामविलास पासवान और रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा भी मंत्रिमंडल में हैं.

चर्चा है कि रूडी को पार्टी अब संगठन विस्तार की जिम्मेदारी सौंप सकती है.यह भी कहा जा रहा है कि ब्रिक्स देशों की बैठक के लिए चीन जाने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कैबिनेट का विस्तार कर सकते हैं.मोदी कैबिनेट में फेरबदल के कयासों के बीच अब यह अटकलें लगने लगी हैं कि जिन मंत्रियों को हटाकर संगठन में लाया जाना है, उनमें राजीव प्रताप रूडी के अलावा गिरिराज सिंह शामिल हैं.

इनके अलावा पंजाब के प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विजय सांपला और यूपी के प्रदेश अध्यक्ष बनाए गए केंद्रीय मानव संसाधन राज्यमंत्री महेंद्र पांडे भी शामिल हैं. कलराज मिश्र को भी उनकी आयु की वजह से इस बार कैबिनेट से संगठन में लाया जा सकता है या फिर राज्यपाल बनाया जा सकता है. पिछले दिनों लगातार रेल हादसों के बाद रेलमंत्री सुरेश प्रभु भी इस्तीफा दे चुके हैं. प्रधानमंत्री ने उन्हें इंतजार करने के लिए कहा है.

बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री रूडी के प्रदर्शन से संतुष्ट नहीं थे. रूडी अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में भी एक साल के लिए उड्डयन मंत्री रह चुके हैं. बीजेपी सूत्रों का कहना है कि हाल ही में अमित शाह ने उपेंद्र कुशवाहा, राजीव प्रताप रूडी और चौ. बीरेंद्र सिंह को बुलाया था. यह माना जा रहा है कि चौ. बीरेंद्र सिंह को भी कुछ और जिम्मेदारी दी जा सकती है. 

गुरुवार को खुद अरुण जेटली ने भी संकेत दे दिए. मीडिया के एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि रक्षा मंत्रालय की अतिरिक्त जिम्मेदारी मेरे पास ज्यादा दिनों तक नहीं रहेगी.
संभावना है कि शनिवार शाम या रविवार सुबह कैबिनेट का विस्तार हो सकता है.

गौरतलब है कि गुरुवार (31 अगस्त) को भाजपा प्रमुख अमित शाह ने मंत्रिमंडल में फेरबदल की अटकलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भेंट की थी. फिलहाल मंत्रिमंडल में फेरबदल की चर्चा जोरों पर हैं.

Hindi News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *