बिहार में महागठबंधन तोड़ने के आरोपों का अमित शाह ने दिया यह जवाब

लखनऊ : बिहार में महागठबंधन टूटने के बाद बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह ने पहली बार मीडिया के सामने अपनी बात रखी. गौरतलब है कि बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व में बीजेपी और जेडीयू की सरकार बन गई है. इस पर विपक्षी पार्टियों ने बिहार में आरजेडी- कांग्रेस और जेडीयू गठबंधन में फूट के लिए बीजेपी पर आरोप लगाए थे. सोमवार को लखनऊ में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में अमित शाह ने संवाददाताओं की तरफ से पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए कहा कि महागठबंधन तोड़ने का हमारे पर आरोप लगाना गलत है, नीतीश कुमार ने खुद इस्‍तीफा दिया है.

दूसरी तरफ सीएम नीतीश कुमार के महागठबंधन से अलग होने और बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाने के फैसले पर आज पटना हाईकोर्ट में सुनवाई हुई. इस मामले में आरजेडी द्वारा दायर की गई याचिका को हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया. कोर्ट ने कहा कि विधानसभा में बहुमत परीक्षण हो चुका है.

लखनऊ में मोदी सरकार की उपलब्धियों पर अमित शाह ने बातचीत करते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने सात करोड़ 64 लाख युवाओं को लोन देकर रोजगार मुहैया कराया है. सरकार के कामों का जिक्र करते हुए शाह ने कहा कि मोदी सरकार ने चार करोड़ गरीबों के घरों में शौचालय बनवाए हैं. मोदी सरकार ने 19 हजार गांवों में बिजली पहुंचाई है.

उत्‍तर प्रदेश की योगी सरकार पर बात करते हुए अमित शाह ने कहा कि केंद्र सरकार ने यूपी को 4 हजार 77 करोड़ रुपए ज्यादा दिया है. पनामा लीक पर पूछे गए सवाल पर शाह ने कहा कि इसमें बीजेपी का कोई नेता शामिल नहीं है और जांच एजेंसी अपना काम कर रही हैं. पाकिस्‍तान से सीमा पर होने वाले व्‍यापार पर बात करते हुए बीजेपी अध्‍यक्ष ने कहा कि पाकिस्‍तान से व्‍यापार करने के मामले में सभी दल मिलकर बातचीत करेंगे.

Hindi News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *